शांति और स्थिरता का उपयोग—अपने उद्देश्यों को पा लेना

बहुआयामी परिवर्तन के तीसरे चरण का परिचय

दूसरे और तीसरे चरण के बीच की सीमा धुंधली है|

पहले और दूसरे चरण में, हमने शांति और स्थिरता को पाने और आगे ले जाने की बात की है। इस तीसरे चरण में, हम शांति और स्थिरता के उपयोग की बात करेंगे। हमारा जो भी उद्देश्य है, या हम जो भी पाना चाहते हैं, शांति और स्थिरता हमें वह पाने में मददगार है।

पहले और दूसरे चरण के बीच एक निश्चित सीमा रेखा है| पहले चरण का समापन इस नाम का एक अध्याय लिखा गया है| पहले चरण को सफलता पूर्वक पार करने के बाद ही हम दूसरे चरण में आते हैं| दूसरे चरण में दिए गए सुझावों को आत्मसात करने के बाद ही, तीसरे चरण के सुझावों को अपनाने की सलाह दी जाती है| फिर भी दूसरे और तीसरे चरण के बीच की सीमा धुंधली है| हम दूसरे और तीसरे चरण को साथ-साथ अपना सकते हैं| लेकिन बिना दूसरे चरण को अपनाए, तीसरे चरण को आपनाने का प्रयास बेकार सिद्ध होने वाला है|

शांति और स्थिरता का उपयोग — हमारा दृष्टिकोण

यहां हम शांति और स्थिरता के उपयोग की बात एक बहुत ही संकीर्ण दृष्टिकोण से करेंगे। शांति और स्थिरता की मदद से, हम अपनी ताकत का अंदाजा लगा सकते हैं। शांति और स्थिरता की मदद से, हमें आगे एक साल में या एक महीने में या एक दिन में क्या करना है, इसका निर्णय हम ले सकते हैं। अंत में शांति और स्थिरता की मदद से हम अपने लक्ष्य को पा सकते हैं।

थोड़े से बड़े दृष्टिकोण से देखें तो शांति और स्थिरता का उपयोग, सभी लोग आगे बढ़ने के लिए करना चाहते हैं। देश अथवा विश्व के दृष्टिकोण से भी देखें तो शांति और स्थिरता के बिना विकास सम्भव नहीं है।

हम एक बहुत बड़े दृष्टिकोण से भी देख सकते हैं| हमें यह लगेगा, हम जिन उद्देश्यों की प्राप्ति की सोचते हैं, वे भी हमारी स्थिरता बढ़ाने के लिए ही हैं। स्थिरता का एक विस्तृत अर्थ है, जिसे दूसरे चरण के शुरू में बताया गया है, और इसे फिर से पढ़ लें। इस दृष्टिकोण से स्थिरता पाने का संघर्ष हमारी मृत्यु के साथ ही समाप्त होता है। यानी इस संघर्ष में हमारी हार निश्चित है। फिर भी हम इस संघर्ष को जारी रखते हैं। संसार के सभी प्राणी चाहते हैं कि उनकी प्रजाति चलती रहे। मनुष्य सन्तान पैदा करता है जिससे मृत्यु के बाद भी उसका वंश चलता रहे। हम सभी कुछ ऐसा करना चाहते हैं, जिससे मृत्यु के बाद भी लोग हमें याद करें। हम सभी संसार में अपना यश फैलाना चाहते हैं, वही अमर होने का एकमात्र उपाय हमारे पास है। इस विस्तृत दृष्टिकोण से स्थिरता के दो उपयोग हमें दिखाई देंगे—संतान पैदा करना और उसे बड़ा करना, और अपना यश इस दुनिया में फैलाना। इस मार्गदर्शिका में इस बड़े दृष्टिकोण के बारे में इसके आगे चर्चा नहीं की जाएगी, लेकिन इस मार्गदर्शिका में बताए गए उपायों से हम आगे बढ़ सकते हैं, और अपना यश फैलाने की कोशिश कर सकते हैं।

इस भाग में तीन अध्याय हैं, जिनमें इन मुद्दों पर चर्चा होगी

अब हम एक-एक करके सफलता की सीढ़ी चढ़ सकते हैं

हम सभी इस सच्चाई को जानते हैं कि सफलता पाने के लिए किसी भी काम को लगन के साथ करना पड़ता है। इसमें इतना और जोड़ दीजिए कि लगन से किसी काम को करने के लिए स्थिरता की जरूरत होती है। हमें यह बहुत आसानी से समझ आ जाएगा—स्थिरता पाने के बाद, किसी भी काम को हम लगन से कर सकेंगे, और सफलता की सीढ़ियां चढ़ सकेंगे।

इस अध्याय में, करीना और उसकी बेटियों का उदाहरण दिया गया है। करीना अपनी बेटियों को पढ़ाई में आगे ले जाना चाहती थी, इसलिए वह उनको घर के काम से अलग रखती थी। क्या करीना ठीक कर रही थी? हममें से बहुत से लोग, करीना को सही मानेंगे। परंतु सच्चाई यह है कि परीक्षा में अच्छे अंक पा लेने मात्र से हम जीवन में सफलता हासिल नहीं कर सकते हैं। जीवन में सफलता पाने के लिए, हमें अनेक प्रकार की प्रतिभाओं का विकास करना पड़ता है। चौबीसवें अध्याय में, इस विषय पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

अब हम विफलता का सामना कर सकते हैं, और सफलता पा सकते हैं

बहुआयामी परिवर्तन हमें आशा का वरदान देता है। आशावान होने से हम बार-बार प्रयत्न कर सकते हैं, अपनी कमियों को देखकर उन्हें सुधार सकते हैं, और विफलताओं का सामना कर सकते हैं।

अब हम अपने व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास कर सकते हैं, और बहुत दूर तक जा सकते हैं

इस अध्याय में व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास और बहुत दूर तक जाने के बारे में चर्चा की गई है। बहुआयामी परिवर्तन के द्वारा हम अपनी और अपने आस-पास वालों की खुशी बढ़ा सकते हैं। बहुआयामी परिवर्तन के द्वारा हम पर्यावरण की समस्याओं से जुड़ सकते हैं, और समस्त विश्व और बृह्मांड से जुड़ जाने की कोशिश कर सकते हैं।





मार्गदर्शिका