शारीरिक व्यायाम की शुरुआत

शारीरिक व्यायाम के महत्व से हम सभी परिचित हैं। बहुआयामी परिवर्तन में भी शारीरिक व्यायाम को उचित स्थान दिया गया है। इसलिए पहले चरण में और जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी शारीरिक व्यायाम शुरू करने की सलाह दी जाती है।

  • अगर हम घर से बाहर जा रहे हैं, और अपने सब काम कर रहे हैं:
    ऐसी स्थिति में हम, बहुआयामी परिवर्तन अपनाने के पहले या दूसरे दिन से शारीरिक व्यायाम शुरू कर सकते हैं| वे घर से बाहर किसी पार्क या बगीचे में जाकर सैर, तेज चलना, दौड़ना, या कोई और व्यायाम करना शुरू करें|
  • अगर हम बिस्तर पर हैं, और घर से बाहर निकलना संभव नहीं है:
    ऐसी स्थिति में, हम अपने ठीक होने की राह देख सकते हैं| कमर-दर्द या डिप्रैशन से पीड़ित लोग चौथे या पांचवें दिन से व्यायाम शुरू कर सकते हैं| अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति अस्थमा का दौरा ठीक होने की रह देख सकते हैं| हृदय रोग से पीड़ित लोग, अपने डॉक्टर की सलाह का अनुसरण करें|
  • बहुत बूढ़े या शारीरिक दृष्टि से अपंग व्यक्ति सावधानी बरतें| अकेले सड़क पर निकलने के बदले, वे किसी की मदद लेकर पार्क या बगीचे में चले जाएं|

आइसोटोनिक व्यायाम करें

सैर करना सबसे अच्छा है। तेज चलें, जिससे सांस फूलने लगे। साइकिल चलाना भी अच्छा व्यायाम है। जिम में जाने वाले भारी व्यायाम न करें। केवल आइसोटोनिक एक्सरसाईज करें—मतलब भारोत्तोलन इत्यादि न करें—जब तक कि हमारा उद्देश्य शारीरिक सौष्ठव को बढ़ाना नहीं है| 

❐ स्पष्टीकरण—दो प्रकार के शारीरिक व्यायाम होते हैं—आइसोटोनिक और आइसोमेट्रिक। हृदय, फेफड़ों, शरीर के जोड़ों इत्यादि के लिए आइसोटोनिक व्यायाम अच्छा है। शरीर को सुगठित बनाने के लिए आइसोमेट्रिक व्यायाम किए जाते हैं। मोटे तौर पर जिस व्यायाम में हाथ-पैर अधिक चलते हैं वह आइसोटोनिक व्यायाम है, जैसे कि सैर करना और साइकिल चलाना। और जिस व्यायाम में हाथ पैर कम चलते हैं, वह आइसोमेट्रिक व्यायाम है, जैसे कि भार उठाना। बहुआयामी परिवर्तन अपनाने वाले अधिकतर लोगों के लिए आइसोटोनिक व्यायाम अपनाने की सलाह दी जाती है|

कितनी देर और कितनी बार व्यायाम करें?

आम तैर पर आधे घंटे का व्यायाम हफ्ते में तीन से चार दिन करने की सलाह दी जाती है। धीमी शुरुआत करें, और एक-दो हफ्ते में इस स्तर तक जाएं।

डायबिटीज के रोगियों के लिए रोजाना व्यायाम करना अच्छा है। डायबिटीज में नियमितता जरूरी है। नहीं तो जिस दिन व्यायाम करेंगे उस दिन खून में शक्कर की मात्रा कम रहेगी, और जिस दिन व्यायाम नहीं करेंगे उस दिन शक्कर बढ़ जाएगी।

हमें शरीर का वजन कम करना है, तब भी रोजाना व्यायाम करना अच्छा है।

शारीरिक व्यायाम अपनाने में आने वाली कठिनाइयाँ

हम पुराने अनुभवों के आधार पर सोच सकते हैं कि वे शारीरिक व्यायाम नहीं हो पाएगा—कुछ छोटी या बड़ी तकलीफ हो जाने का डर, हमारे मन में हो सकता है। सुदीक्षा को मधुमेह था। उसे रोजाना घूमने जाने की जरूरत थी—पर उसके पैरों में दर्द होता था, और उसे लगता था कि उसके पैरों की नसें कमजोर हो गई हैं। इसलिए वह घूमने न जाती थी। बहुआयामी परिवर्तन के बाद पैरों का दर्द ठीक हो गया, लेकिन उसकी भावना न गई कि उसके पैरों की नसें कमजोर हो गई हैं, और उसने घूमने जाना शुरू नहीं किया।

कुंदन का कमर-दर्द ठीक हो गया| इसके बाद उसने सब काम शुरू कर दिए| लेकिन वह पैरासिटामौल का उपयोग नहीं छोड़ पा रहा था| पूछने पर पता चला कि उसने शारीरिक व्यायाम बंद कर दिया था| बहुआयामी परिवर्तन की दीर्घकालीन सफलता और पैरासिटामौल का प्रयोग कम करने के लिए नियमित शारीरिक व्यायाम जरूरी है। शारीरिक व्यायाम से शरीर में कुछ रसायन बनते हैं, जिनका प्रभाव अफीम जैसा होता है—मतलब वे दर्द को कम करते हैं। इसीलिए व्यायाम करने वालों को इसका नशा होता है। तंबाकू का प्रयोग बंद करने के लिए शारीरिक व्यायाम शुरू करने की सलाह दी जाती है। मानसिक संतापों जैसे कि अवसाद (डिप्रैशन) ओर चिंता (एंग्जाइटी) के लिए भी शारीरिक व्यायाम अच्छा है।

रवि ने शारीरिक व्यायाम कुछ दिन के बाद छोड़ दिया| कारण पूछने पर उसने बताया कि उसे समय ही नहीं मिलता था| उसकी पत्नी ने बताया कि वह सवेरे देर से उठने लगा था| अधिक पूछने पर पता चला कि रवि ने सेक्स क्रियाओं पर नियंत्रण रखना बंद कर दिया था| वह पहले चरण में ही था| उसे पहले चरण को फिर से शुरू करना पड़ा| इस बार उसने अपने आप पर नियंत्रण रखा, और पहला चरण सफलता पूर्वक पूरा कर लिया| यौन क्रियाओं में बारीकी लाना: दूसरे चरण में उसने यह भी अपना लिया| इसके बाद रवि खुश था—क्योंकि उसकी सिगरेट बंद थी| वह सवेरे घूमने के लिए जा रहा था| और ऑफिस में बेहतर काम कर पा रहा था, जिससे उसकी बहुत दिनों से रुकी हुई तरक्की भी हो रही थी|

सांस का व्यायाम, तनाव-मुक्ति का आसन, और पैरासिटामौल—ये तीनों क्रियाएँ शुरू के कुछ दिनों में जादुई ढंग से फायदा देती हुई प्रतीत होती हैं। लेकिन लंबे समय तक बहुआयामी परिवर्तन के लाभों को जारी रखने के लिए, शारीरिक व्यायाम जरूरी है।





मार्गदर्शिका